मेरा पसंदीदा खेल पर निबंध 100, 150, 200, 250, 300, 500, शब्दों मे (My Favourite Game Essay in Hindi)

My Favourite Game Essay in Hindi – खेल खेलना शिक्षा और विकास का एक अनिवार्य हिस्सा है। खेल खेलने से सीखने के प्रति दृढ़ मनोवृत्ति का निर्माण होता है। हमारे देश में तरह-तरह के खेल खेले जाते हैं। खेलों को दो वर्गों में बांटा गया है – आउटडोर और इनडोर खेल। शतरंज, कार्ड, लूडो और कैरम इनडोर खेल हैं। हॉकी, फुटबॉल, क्रिकेट, बास्केटबॉल, टेनिस, बैडमिंटन बाहरी और विदेशी खेल हैं। कबड्डी, शिकार, कुश्ती, घुड़सवारी, तैराकी, बॉल फाइटिंग लंबे आउटडोर खेल हैं, लेकिन वे भारतीय हैं।

मेरे पसंदीदा खेल पर इस निबंध में, मैं उस खेल के बारे में बात करने जा रहा हूं जो मुझे सबसे ज्यादा पसंद है। यहां, हमने बैडमिंटन पर लंबे और छोटे दोनों विषयों में भाषण तैयार करने में आपकी मदद करने के लिए निबंध को पैराग्राफ में तोड़ा है।

माई फेवरेट गेम पर लघु निबंध (Short Essay on My Favourite Game in Hindi)

खेल आवश्यक हैं क्योंकि वे शरीर और मन को विकसित और विकसित करने में मदद करते हैं, चाहे वह शैक्षिक वातावरण में हो या घर पर। खेल खेलने से मुझे हमेशा सक्रिय, ऊर्जावान और स्वस्थ रहने में मदद मिली है। यह मेरे दैनिक जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा है। मुझे आउटडोर के साथ-साथ इनडोर गेम्स भी बहुत पसंद हैं। बैडमिंटन मेरा पसंदीदा खेल है क्योंकि यह मुझे पूरे दिन सक्रिय रहने में मदद करता है। बैडमिंटन खेलने के लिए गति, शक्ति और सटीकता की आवश्यकता होती है। बैडमिंटन खेलने से मुझे सक्रिय और ऊर्जावान बनने में मदद मिलती है। इस खेल में एक अच्छा खिलाड़ी बनने के लिए काफी अभ्यास और कड़ी मेहनत की जरूरत होती है।

मेरा पहला बैडमिंटन मैच तब था जब मैं 12 साल का था। मुझे इस खेल को सीखने के लिए स्टेडियम ले जाया गया और तब से यह मेरा पसंदीदा खेल बन गया है। मैं बाहर जाने या वीडियो गेम खेलने के बजाय इसे खेलने का प्रयास करता हूं। बैडमिंटन खेलते समय हमें दो रैकेट और एक शटलकॉक की आवश्यकता होती है। शटलकॉक एक गेंद की तरह काम करता है, जो कॉर्क के एक छोटे टुकड़े से जुड़े पंखों से बनी होती है। दूसरी ओर, बैडमिंटन रैकेट वजन में हल्के होते हैं। बैडमिंटन टेनिस की तरह है; फर्क सिर्फ इतना है कि जाल ऊंचा है और गेंद हल्की है।

मेरा पसंदीदा खेल निबंध 10 पंक्तियाँ (My favourite game Essay 10 lines in Hindi)

  1. यह मेरा पसंदीदा खेल है, यह एक इनडोर खेल है लेकिन कारण यह खेल बाहर भी खेला जाता है। 
  2. बैडमिंटन एक रैकेट खेल है जो नेट के दोनों ओर शटलकॉक के साथ खेला जाता है।
  3. शटलकॉक पंख से बना होता है।
  4. यह खेल ब्रिटिश भारत में विकसित हुआ और एशिया में लोकप्रिय हो गया।
  5. इसे दो-खिलाड़ी एकल के साथ खेला जा सकता है।
  6. जब चार खिलाड़ी एक साथ खेलते हैं तो इसे युगल कहा जाता है। 
  7. मिश्रित युगल जब खेल में एक भागीदार के रूप में पुरुष और महिला दोनों भाग लेते हैं। 
  8. बैडमिंटन का मैदान आयताकार है और दो बराबर भागों में बांटा गया है। 
  9. सानिया नेहवाल भारत की एक प्रमुख बैडमिंटन खिलाड़ी हैं।
  10. सर्विंग, स्कोरिंग, लेट्स ये गेम में इस्तेमाल होने वाले शब्द हैं। 

इनके बारे मे भी जाने

मेरा पसंदीदा खेल निबंध 100 शब्द (My Favourite game Essay 100 words in Hindi)

हॉकी मेरा पसंदीदा खेल है। इस खेल को खेलना मजेदार है। मैं अपने स्कूल में अपने दोस्तों के साथ हॉकी खेलता हूं। हॉकी भारत का राष्ट्रीय खेल है और पूरे विश्व में खेला जाता है। मेरे पिता एक राष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी हैं। वह मुझे कुशलता से हॉकी खेलने के तरीके सिखाता है।

इस खेल में प्रत्येक टीम में 11 सदस्य होते हैं जो एक दूसरे के साथ प्रतिस्पर्धा करते हैं। खेलना मुझे स्वस्थ, फिट रखता है और ऊर्जा और मनोरंजन का एक बड़ा स्रोत है। भारत का राष्ट्रीय खेल होने के कारण यह भारत में आम नहीं है। लोगों को हॉकी खेलनी चाहिए और देखना चाहिए कि यह खेल कितना अच्छा है। स्कूलों को भी इस खेल को शामिल करना चाहिए और छात्रों को खेलना सिखाना चाहिए और इसकी लोकप्रियता को बढ़ाना चाहिए।

मेरा पसंदीदा खेल निबंध 150 शब्द (My Favourite game Essay 150 words in Hindi)

खेल आवश्यक हैं क्योंकि वे शरीर और मन को विकसित और विकसित करने में मदद करते हैं, चाहे वह शैक्षिक वातावरण में हो या घर पर। खेल खेलने से मुझे हमेशा सक्रिय, ऊर्जावान और स्वस्थ रहने में मदद मिली है। यह मेरे दैनिक जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा है। मुझे आउटडोर के साथ-साथ इनडोर गेम्स भी बहुत पसंद हैं। बैडमिंटन मेरा पसंदीदा खेल है क्योंकि यह मुझे पूरे दिन सक्रिय रहने में मदद करता है। बैडमिंटन खेलने के लिए गति, शक्ति और सटीकता की आवश्यकता होती है। बैडमिंटन खेलने से मुझे सक्रिय और ऊर्जावान बनने में मदद मिलती है। इस खेल में एक अच्छा खिलाड़ी बनने के लिए काफी अभ्यास और कड़ी मेहनत की जरूरत होती है।

मेरा पहला बैडमिंटन मैच तब था जब मैं 12 साल का था। मुझे इस खेल को सीखने के लिए स्टेडियम ले जाया गया और तब से यह मेरा पसंदीदा खेल बन गया है। मैं बाहर जाने या वीडियो गेम खेलने के बजाय इसे खेलने का प्रयास करता हूं। बैडमिंटन खेलते समय हमें दो रैकेट और एक शटलकॉक की आवश्यकता होती है। शटलकॉक एक गेंद की तरह काम करता है, जो कॉर्क के एक छोटे टुकड़े से जुड़े पंखों से बनी होती है। दूसरी ओर, बैडमिंटन रैकेट वजन में हल्के होते हैं। बैडमिंटन टेनिस की तरह है; फर्क सिर्फ इतना है कि जाल ऊंचा है और गेंद हल्की है।

मेरा पसंदीदा खेल निबंध 200 शब्द (My Favourite game Essay 200 words in Hindi)

बैडमिंटन मेरा पसंदीदा खेल है। इसे घर के अंदर और बाहर खेला जा सकता है। यह फिटनेस के साथ-साथ मनोरंजन के लिए एक बेहतरीन खेल है। हर आयु वर्ग के लोग बैडमिंटन खेल सकते हैं। यह खेलना आसान खेल है। यह खेल 19वीं शताब्दी में अस्तित्व में आया जब भारत पर अंग्रेजों का शासन था।

इसकी शुरुआत जॉर्ज काजोल्स नामक एक खेल से हुई थी जो पुणे में शुरू हुआ था। इसे एक हल्के रैकेट और एक शटलकॉक के साथ खेला जाता है जिसे रैकेट की मदद से हवा में घुमाया जाता है। यह एक ऐसा खेल है जो मुझे ऊर्जावान और सक्रिय बनाता है। यह मेरी ऊर्जा और मनोरंजन का स्रोत है।

मैं अपने स्कूल में अपने सहपाठियों के साथ बैडमिंटन खेलता हूं और शाम को मैं अपने सबसे अच्छे दोस्त के साथ खेलता हूं। मुझे यह खेल पसंद है क्योंकि इसमें गति और सटीकता की आवश्यकता होती है और मैं दोनों में कुशल हूं। इस खेल को 1992 में ओलंपिक में एक आधिकारिक खेल माना गया था।

हालाँकि इसकी उत्पत्ति इंग्लैंड में हुई थी, लेकिन अब यह एशियाई देशों जैसे भारत, दक्षिण कोरिया, इंडोनेशिया, चीन आदि में व्यापक रूप से खेला जाता है। खेलने से मैं पूरे दिन स्वस्थ और सक्रिय रहता हूँ। मैं आमतौर पर मनोरंजन के लिए खेलता हूं लेकिन जब मैं प्रतिस्पर्धी महसूस करता हूं तो मैं गंभीर हो जाता हूं और सटीकता के साथ खेलता हूं।

कई संगठन क्षेत्रीय, क्षेत्रीय और राष्ट्रीय स्तर पर इन बैडमिंटन आयोजनों का आयोजन करते हैं। मैं क्षेत्रीय स्तर पर खेल चुका हूं। इस गेम को खेलने से मेरा तनाव दूर होता है और मेरा मूड अच्छा रहता है। हर मूड में खेलना मेरा पसंदीदा खेल है।

मेरा पसंदीदा खेल निबंध 250 शब्द (My Favourite game Essay 250 words in Hindi)

परिचय

खेल हमारे मन और शरीर के विकास में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। खेलों के साथ-साथ पढ़ाई से व्यक्ति का सर्वांगीण विकास होता है। हम देख सकते हैं कि स्कूलों में समय सारिणी में एक सप्ताह के दौरान दो या तीन खेल की अवधि होती है, जिसमें पढ़ाई के साथ खेल की आवश्यकता पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। खेल खेलना हमें स्वस्थ और फिट बनाता है।

खेल मैं खेलता हूँ

मैं आमतौर पर अपने घर में कैरम, शतरंज और लूडो जैसे इनडोर खेल खेलता था। अपनी बहनों के साथ इन खेलों को खेलना घर पर मेरा पसंदीदा टाइम-पास है। कभी-कभी हम मैच जीतने के बाद कुछ उपहार या जीतने की कीमत तय करते हैं।

मेरा पसंदीदा खेल बैडमिंटन है

सभी खेलों में मेरा पसंदीदा खेल बैडमिंटन है। सर्दियों के दिनों की बात है जब मेरी माँ हमें सुबह-सुबह टहलने और पढ़ने के लिए जगाती थीं। चूँकि मैं सुबह नहीं पढ़ सकता था इसलिए मैंने सुबह बैडमिंटन खेलने का फैसला किया। यह मेरे लिए और स्वस्थ रहने के लिए एक बेहतरीन एक्सरसाइज साबित हुई। मुझे मिजाज की समस्या भी है और इस खेल ने मुझे आराम का अनुभव कराया।

चूंकि मुझे बैडमिंटन खेलने का अच्छा अभ्यास मिला था, इसलिए मेरा चयन अपने स्कूल बैडमिंटन टीम में हो गया। मैं बैडमिंटन खेलने के बाद ऊर्जावान महसूस करता हूं। मैंने कई बार अपने स्कूल की तरफ से खेला है और पुरस्कार भी प्राप्त किया है। मुझमें इस खेल का क्रेज था और इसलिए मैं अपने दोस्तों के साथ खेलने के लिए समय पर मैदान पर पहुंच जाता था।

निष्कर्ष

खेल फिटनेस के लिए जरूरी है। जब हम आउटडोर गेम खेलते हैं, तो वे हमें फिट रखते हैं और हमारी मांसपेशियों को व्यायाम देते हैं।

मेरा पसंदीदा खेल निबंध 300 शब्द (My Favourite game Essay 300 words in Hindi)

खेल खेलना स्वस्थ माना जाता है क्योंकि वे व्यायाम का एक रूप है जो हमारे शरीर और प्रतिरक्षा प्रणाली को लाभ पहुंचाता है और हमारी ताकत को काफी बढ़ाता है। यह हमें फिट भी रखता है और कई बीमारियों से बचाता है। कुछ शारीरिक शौक को अपनी दिनचर्या में शामिल करना फायदेमंद होता है। डॉक्टर भी आउटडोर गेम खेलने की सलाह देते हैं क्योंकि वे हमें कई लाभ प्रदान करते हैं। क्रिकेट, फुटबॉल, बैडमिंटन, बास्केटबॉल, टेनिस आदि सहित कई आउटडोर खेल हैं, हालांकि, मेरा पसंदीदा खेल बैडमिंटन है।

बैडमिंटन खेलना मुझे खुश और ऊर्जावान महसूस कराता है और मुझे अपने खाली समय में इसे खेलना पसंद है। शुरुआत में, मैंने अपने पिता के साथ 10 साल की उम्र में इस खेल को खेलना शुरू कर दिया था। तभी से यह खेल मेरा जुनून बन गया और जब भी मुझे ऐसा करने का मौका मिलता मैं हमेशा एक पेशेवर बैडमिंटन खिलाड़ी बनना चाहता था। यह खेल एक स्वस्थ खेल है और इसमें बहुत सारे शारीरिक व्यायाम शामिल हैं। इसलिए, यह एक महान तनाव बस्टर के रूप में कार्य करता है और जब भी मैं कम और व्यस्त महसूस करता हूं तो मुझे राहत देता है।

मैं हमेशा मोबाइल या कंप्यूटर पर गेम खेलने के बजाय आउटडोर गेम खेलना पसंद करता हूं। मोबाइल गेम एक ऐसा लत है और आंखों और मानसिक स्वास्थ्य पर बुरा असर डालता है। खैर, बैडमिंटन एक ऐसी चीज है जो हमेशा मुझमें जुनून पैदा करती है। मैं इसे बड़े जोश और ऊर्जा के साथ खेलता हूं। मेरा एक दोस्त महान बैडमिंटन खिलाड़ी है और वह राष्ट्रीय स्तर पर भी खेल चुका है। शाम को हम अपने घर के पास एक बैडमिंटन कोर्ट जाते हैं और वहां घंटों खेलते हैं। उन्होंने मुझे बैडमिंटन में कई तकनीकें सिखाई हैं क्योंकि वह एक समर्थक खिलाड़ी हैं। मैं वह विशिष्ट खेल खिलाड़ी नहीं हूं लेकिन हां मैं एक पेशेवर बनना पसंद करूंगा।

मैं हमेशा इस खेल में अपने कौशल में सुधार करने की कोशिश कर रहा हूं और मैं उस दिन का इंतजार कर रहा हूं जब मैं पेशेवर खिलाड़ियों की टीम में शामिल हो जाऊं और उसी के लिए अपने देश का प्रतिनिधित्व करूं।

Also Read

मेरा पसंदीदा खेल निबंध 500 शब्द (My Favourite game Essay 500 words in Hindi)

मेरा पसंदीदा खेल निबंध-खेल एक इंसान के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं। यह आदमी को फिट रखता है। इतना ही नहीं यह उसे बीमारियों से भी दूर रखता है। किसी व्यक्ति के लिए कुछ शारीरिक शौक होना जरूरी है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि कई पोषण विशेषज्ञ और डॉक्टर इसकी सलाह देते हैं। बच्चे कई खेल खेलते हैं। उनमें से कुछ क्रिकेट, बास्केटबॉल, फुटबॉल हैं। टेनिस, बैडमिंटन, आदि। चूंकि भारत में प्रसिद्ध खेल क्रिकेट है, इसलिए कई बच्चे इसे शौक के रूप में ले रहे हैं। लेकिन मेरा पसंदीदा फुटबॉल है।

मेरा पसंदीदा खेल – फुटबॉल

जब मैं बच्चा था तो मुझे भी क्रिकेट पसंद था लेकिन उसमें कभी अच्छा नहीं था। इसलिए मैंने अपने शौक को फुटबॉल में बदल लिया। फुटबॉल मेरे लिए कक्षा 3 में नया था। मैं शुरुआत में अच्छा नहीं खेल पाया। लेकिन मुझे खेल बहुत पसंद आया। तो मैंने इसका अभ्यास करना शुरू कर दिया। नतीजतन, मैंने इसे अच्छी तरह से खेलना शुरू कर दिया।

कक्षा 5 में मैं अपनी कक्षा फुटबॉल टीम का कप्तान बना। उस समय मैं कप्तान बनने के लिए बहुत उत्साहित था। समय के साथ फुटबॉल के बारे में काफी कुछ सीखने को मिला।

फुटबॉल में कुल 22 खिलाड़ी खेलते हैं। खिलाड़ियों का विभाजन दो टीमों में होता है। प्रत्येक टीम में 11 खिलाड़ी होते हैं। इन खिलाड़ियों को केवल पैरों से गेंद से खेलना होता है। उन्हें दूसरी टीमों के गोल पोस्ट में गेंद को किक करना होता है। फुटबॉल क्रिकेट की तरह नहीं है। फुटबॉल में मौसम कोई समस्या नहीं है। जिससे खिलाड़ी इसे पूरे साल खेल सकते हैं।

फुटबॉल के अलावा सहनशक्ति का खेल है। खिलाड़ियों को पूरे खेल के लिए मैदान पर दौड़ना होता है। वो भी 90 मिनट के लिए। चूंकि 90 मिनट बहुत होते हैं इसलिए समय में विभाजन होता है। दो पड़ाव हैं। पहला 45 मिनट का है। इसी तरह सेकेंड हाफ भी 45 मिनट का है।

खेल में नियम

अन्य सभी खेलों की तरह कुछ नियम और कानून भी हैं। सबसे पहले गेंद को हाथ से गेंद को नहीं छूना चाहिए। अगर गेंद को हाथ से छुआ जाता है तो दूसरी टीम को फ्री-किक मिलती है। गोल पोस्ट के पास एक छोटा सा क्षेत्र है। ‘डी’ उस क्षेत्र का नाम है। ‘डी’ की सीमा गोल पोस्ट से कम से कम 10 गज की दूरी पर है। यदि खिलाड़ी वहां गेंद को छूता है तो विपरीत टीम को पेनल्टी मिलती है।

इसके अलावा और भी नियम हैं। दूसरा महत्वपूर्ण नियम ‘ऑफ-साइड रूल’ है। इस नियम में, यदि खिलाड़ी डिफेंडर लाइन को पार करता है तो वह ऑफसाइड बन जाता है। यदि आप फुटबॉल के सच्चे प्रशंसक हैं तो आपको पता होना चाहिए कि रक्षक क्या होते हैं।

खेल में, खिलाड़ी तीन उपश्रेणियों में होते हैं। पहली श्रेणी फॉरवर्ड है। फॉरवर्ड वे खिलाड़ी होते हैं जो गेंद को गोल पोस्ट के जाल में डालते हैं। दूसरी श्रेणी मिडफील्डर है। मिडफील्डर वे खिलाड़ी होते हैं जो गेंद को आगे के खिलाड़ी को पास करते हैं। तीसरी श्रेणी रक्षकों की है। डिफेंडर टीम के अन्य खिलाड़ियों को गेंद को गोल पोस्ट में डालने के लिए रोकते हैं।

मैदान पर खेलने वाले सभी खिलाड़ियों के अलावा अन्य खिलाड़ी भी होते हैं। ये स्थानापन्न खिलाड़ी हैं। फुटबॉल एक कठोर खेल है। जिससे कई खिलाड़ी चोटिल हो जाते हैं। जब खिलाड़ी चोटिल हो जाते हैं तो बाकी के खेल के लिए स्थानापन्न खिलाड़ी उनकी जगह ले लेते हैं।

इसके अलावा, मैदान पर एक रेफरी है। जब भी कोई जगह फाउल करती है तो रेफरी सीटी बजाता है और खेल को रोक देता है। रेफरी तब टीम को पेनल्टी या फ्री-किक देता है जिसके खिलाफ फाउल होता है।

इसके अलावा, यदि कोई खिलाड़ी टीम के दूसरे खिलाड़ी को चोट पहुँचाता है और बेईमानी करता है, तो रेफरी उसे पीला या लाल कार्ड देता है। पीला कार्ड एक चेतावनी कार्ड है। लाल कार्ड एक निलंबन कार्ड है। यह कार्ड खिलाड़ी को शेष खेल के लिए निलंबित कर देता है।

मेरा पसंदीदा खेल पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

  1. खेल से क्या तात्पर्य है?

    खेल एक ऐसी गतिविधि है जो हमारे तनाव को कम करने में मदद करती है और हमें बहुत खुशी देती है।

  2. विश्व का सबसे पुराना खेल कौन सा है?

    दुनिया का सबसे पुराना खेल मनकाला है।

  3. गेम खेलना क्यों जरूरी है?

    खेल खेलना जरूरी है क्योंकि यह हमारे दिमाग और शरीर को स्वस्थ और फिट रखने में मदद करता है।

  4. खेल खेलने से हमारे अंदर कौन से गुण पैदा होते हैं?

    खेल खेलने से अनुशासन, आत्मविश्वास, टीम वर्क और धैर्य जैसे गुण हममें पैदा होते हैं।

  5. भारत में कौन सा खेल सर्वाधिक लोकप्रिय है?

    भारत में सबसे लोकप्रिय खेल कबड्डी है।

  6. वीडियो गेम कब अस्तित्व में आया?

    1970 के दशक की शुरुआत में वीडियो गेम अस्तित्व में आया।

Leave a Comment